सीधी – सड़क पर 3 से 5 फुट तक अतिक्रमण, क्यों न लगे जाम

0
453

सड़क पर 3 से 5 फुट तक अतिक्रमण, क्यों न लगे जाम

शहर कि सड़को में फिर से सजने लगी दुकानें, विगत सप्ताह हुई थी चलानी और नोटसी कार्यवाही

समय INDIA 24 (8839245425) सीधी। शहर कि सड़को में चलने वाले लोगो को आये दिन होने वाली यातायात समस्या देखते हुए विगत सप्ताह यातायात पुलिस द्वारा दुकानदारों को सड़क पर दुकान न सजाने की अपील की गई थी। संयुक्त तत्वाधान मे चलाये जा रहे अभियान के तहत नगर पालिका अधिकारी द्वारा समझाइस के बाद भी सुधार न होने पर सड़क पर सामान सजाने वाले दुकानदारों के विरूद्ध चालानी कार्यवाही कि गई शहर के संजीवनी पालिका बाजार, सब्जी मंडी, गॉधी चौक से ऊॅची हवेली मार्ग, स्थानीय सोनांचल बस स्टैंड सहित अन्य प्रमुख स्थलो पर सडक़ों पर सजी दुकानो का सामान दुकानदारों द्वारा हटा लिया गया था। जिसके बाद थोड़े समय के लिए यातायात बाधित होने से निजात भीं मिलता दिखा लेकिन वर्तमान समय में पुरानी स्थिति फिर से देखने को मिल रही है और जाम कि स्थिति वापस बन रही है।

अतिक्रमण के चलते सुकड़ने लगी सडक़  – शहर मे संचालित दुकानों के ज्यादातर संचालको के द्वारा दुकान के बाहर सामान रख लेने से शहर के मुख्य मार्ग में चलना और वाहनों को लेकर निकलना कठिन हो गया है। दुकानदारो के द्वारा किये गये अवैध अतिक्रमण से शहर की सुंदरता को ग्रहण लग रहा है और सड़के सुकड़ने लगी है। इन दिनो शहर के ज्यादातर स्थलों पर प्रतिदिन जाम की स्थिति बनी रहती है। इसका प्रमुख कारण दुकानें जितना अंदर कमरों में है, उससे अधिक बाहर सडक़ों पर समान रखे हुए होते ।

51 दुकानदारों को मिली नोटिस – नपा द्वारा सार्वजनिक स्थलो को अतिक्रमण से मुक्त करने की पहल विगत समय प्रारंभ की गयी थी। जिसके तहत नपा एवं पुलिस ने संयुक्त रूप से पैदल भ्रमण कर सैकड़ों दुकानदारों को अतिक्रमण हटाने एवं नगर को साफ स्वच्छ बनाये रखने की समझाइश दी गई। सार्वजनिक मार्ग को अवरूद्ध करने वाले लगभग 125 व्यापारियो के विरूद्ध चालानी कार्रवाई करते हुए जुर्माना बतौर 19900 रूपए शासन के खाते मे जमा कराया गया और फुटपाथ व बरामदे पर अतिक्रमण करने वाले 51 अतिक्रमणकारियों के विरूद्ध नोटिस थमाया गया था। उक्त कार्यवाही के बाद कुछ दिनो तक शहर में अतिक्रमण औसतन कम देखने को मिला। लेकिन अब एक बार फिर सार्वजनिक मार्गो पर दुकाने सजने लगी हैं, जिसके चलते आमजनो को आवागमन मे काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।