सीधी – संघ के रास्ते कांग्रेस में भाजपा कि सेंधमारी

0
408

संघ के रास्ते कांग्रेस में भाजपा कि सेंधमारी

घर वापसी अभियान सहारे कांग्रेस, बूथ – बूथ तक पहुंच रही भाजपा

अमित कुमार स्वतंत्र (8839245425) समय INDIA 24 @सीधी। जिले में कांग्रेस पार्टी को एक बार फिर झटका लगता हुआ दिख रहा है और भाजपा सेंध लगाने दरवाज़े के पीछे से कोशिश कर रही है। यह उस वक्त जब किन्ही कारणों से कांग्रेस पार्टी छोड़ कर गए कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों को वापस कांग्रेस में शामिल करने और कांग्रेस को मजबूत करने के लिए विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजय सिंह राहुल के अगुआई में घर वापसी अभियान की शुरुआत कि जा चुकी है। ऐसे में भाजपा भी 2023 विधानसभा चुनाव में अपने गढ़ को बचाने और पार्टी को मजबूत करने बूथ स्तर तक के नेता को सक्रिय कर दिया है।

राजनीतिक गलियारों में चर्चाएं उस वक्त तेज हो गई जब शाम ढलते ही पटाखों कि गूंज से शहर गुंजायमान हो गया और ज्ञात हुआ कि एक निजी कार्यालय में जहां कांग्रेस के जिला नेतृत्व व प्रदेश के पदाधिकारी सुबह शाम बैठके लगाते हैं वही अब आरएसएस ने दस्तक दे दी है। कांग्रेस समर्थक और जिले के वरिष्ठ नेता पुत्र को सहकार भारती का जिला नेतृत्व कि जिम्मेवारी दी गई है जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का एक आनुसांगिक संगठन है। जिसके बाद जिले के वरिष्ठ पदाधिकारियो के नेतृत्व पर अनगिनत सवालो के साथ कांग्रेस समर्थक उलझे हुए हैं। और विभिन्न सवालों के जबाबों से जानना चाहते हैं कि परंपरागत रूप से जो परिवार कांग्रेस के लिए समर्थित था अब वहा एक मकान दो निशान कि स्थिति कैसे बनी?

भाजपा में भी सब कुछ अच्छा नहीं चल रहा है और यहां भी गुटबाजियां अपने चरम पर है। कई वर्षो से भाजपा के लिए काम करने वाले कार्यकर्ताओं में इस बात को लेकर असंतोष है कि जिला भाजपा पुराने कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी देने के बजाए नए लोगो को ज्यादा महत्व दे रही है। सहकार भारती आरएसएस का ही एक बिंग है। जब मीडिया के सवालों पर भाजपा के पदाधिकारी फंसते हुए नजर आए उस वक्त आरएसएस और बीजेपी का कोई राजनैतिक सम्बंध नहीं कहकर पल्ला झाड़ लिया। लेकिन जनता को मालूम है कि सभी एक ही फूल कि पंखुड़ियां है।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजय सिंह राहुल के नेतृत्व में घर वापसी अभियान से कांग्रेस कितनी मजबूत होती है और भाजपा सेंध मारकर कितना सफल यह आने वाला वक्त ही बतायेगा। लेकिन एक बात साफ है कि कांग्रेस जिले में अपनी विपक्ष की भूमिका निभाने में पीछे रही है। अवैध रेत उत्खनन, रेत खदानों में स्थानीय को रोजगार, जिले मे रोजगार कार्यालय, महंगी रेत, स्वास्थ्य व्यवस्था, कथित चश्मा घोटाला, कथित अधोसंरचना मद घोटाला, बिजली व्यवस्था, उच्च शिक्षा व्यवस्था, नगर पालिका और परिषदों कि अव्यवस्थाएं, अवैध नशा कारोबार जैसे कई प्रमुख मुद्दों को लेकर कांग्रेस जिले में प्रखर नहीं दिखी।

इनका कहना है –

इस संबंध में कोई जानकारी नही कौन कहा जा रहा है। मेरे अंचल के युवा कहीं नहीं जा रहे हैं। जिला कांग्रेस का कार्यालय न खुलना और घर वापसी अभियान दोनो अलग – अलग है! यहां न कोई लंका है न ही कोई विभीषण। – अजय सिंह “राहुल” (पूर्व विधायक एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता)

कांग्रेस अप्रासंगिक हो चुकी है। कांग्रेस के नेता हो या कार्यकर्ता सब छोड़ कर जा रहे हैं। भाजपा में कोई जाति और क्षेत्र का बंधन नही है। राष्ट्रसेवा, समाजसेवा और अंत्योदय सेवा से प्रेरित होकर युवा बीजेपी में आ रहे हैं। सीधी नगर के एक प्रतिष्ठित परिवार के सदस्य जो कांग्रेस के लिए समर्पित रहे वो भाजपा कि सदस्यता ले चुके हैं जो आगे चल कर दिखेगा भी। इसका कारण है कि कांग्रेस आज कार्यकर्ताओं कि नही व्यक्ति विशेष कि हो गई है। – इंद्रशरण सिंह चौहान (जिलाध्यक्ष – बीजेपी सीधी)