वीडियो वायरल : मर्दानगी को ललकारते वायरल हुआ महाविद्यालय प्राचार्य का वीडियो

0
103

वीडियो वायरल : मर्दानगी को ललकारते वायरल हुआ महाविद्यालय प्राचार्य का वीडियो

विधायक को मैं देता हूं परमीशन बनवाए बाउंड्री, आपके पूर्वजों के पाप को धो रहा हूं और भुगत भी रहा हूं

समय INDIA 24@ सीधी/मझौली। जिला मुख्यालय से लगभग 50 किलोमीटर दूर मझौली में स्थापित शासकीय कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय मझौली के प्राचार्य का एक कथित वीडियो वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो को लेकर सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार महाविद्यालय में रखे पुराने सामान को कबाड़ में बेचने कि तैयारी सूचना पर आंचलिक पत्रकार महाविद्यालय पहुंच कर जानकारी जुटा रहा था। इसी बीच महाविद्यालय के प्राचार्य अक्रोशित होकर आंचलिक पत्रकार के ऊपर बरस पड़े । वायरल कथित वीडियो में प्राचार्य यह कहते नजर आ रहे हैं कि जाईए विधायक से इंटरव्यू लीजिए…. मैं विधायक को परमीशन देता हूं… विधायक बनवाए बाउंड्री…. ठेकेदार काम छोड़ कर भाग गया है…आपके पूर्वजों के पाप को धो रहा हूं और भुगत भी रहा हूं…. दम हो.. मर्द हो तो छापों खबर… छापों घटिया निर्माण को लेकर …….। वायरल वीडियो में महाविद्यालय प्राचार्य द्वारा आंचलिक पत्रकार से हुए अभद्र व्यवहार को लेकर जिले के मीडियाकर्मियों में आक्रोश है। मीडिया कर्मियों द्वारा विधानसभा धौहनी विधायक एवं भाजपा नेता कुंवर सिंह टेकाम को ज्ञापन सौंपा गया है। मिली जानकारी अनुसार चोरी से महाविद्यालय कि सामग्री व फर्नीचर को विक्रय किए जाने मिली सूचना पर स्थानीय पत्रकार महाविद्यालय में जानकारी लेने पहुंचा लेकिन महाविद्यालय प्राचार्य का व्यवहार पत्रकार के प्रति अनुकूल नहीं रहा बल्कि खबरों को लेकर चेतावनी भी दी गई। आंचलिक पत्रकारों द्वारा विधायक से महाविद्यालय व्यवस्था और पत्रकार के हुए दुर्व्यवहार को लेकर जांच कराने मांग किया गया है। जिस मामले को गंभीरता से लेते हुए विधायक श्री टेकाम ने मामले कि जांच करने एसडीएम मझौली को निर्देशित किया है। सवाल यह उठता है कि महाविद्यालय कि सामग्री बेचे जाने कि समिति में निर्णय लिया गया है? प्राचार्य द्वारा सवालों जवाब देने के बजाय अभद्र व्यवहार करना चाहिए? क्या शिक्षाविद को सार्वजनिक रूप से किसी कि मर्दानगी को ललकारने जैसा व्यवहार करना  चाहिए? सवाल यह कि विधायक इस मामले को गंभीरता से लेंगे या नहीं?

इनका कहना है –

लैब व्यवस्थित करने के लिए सामग्रियों को निकाला गया था, विज्ञान संकाय होने के कारण लैब आवश्यक है। आवेश में कुछ मेरे द्वारा कह दिया गया है उसके लिए माफ़ी मागता हूं।

डॉ आर के वर्मा, प्राचार्य – शासकीय कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय मझौली, सीधी