विप्र सेवा संघ कि मांग – परशुराम आश्रम का हो पुनः निर्माण

0
1339

विप्र सेवा संघ के द्वारा सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ल क़ो दिया ज्ञापन

विप्र सेवा संघ कि मांग – परशुराम आश्रम का हो पुनः निर्माण

परशुराम आश्रम के नाम पर 5 एकड़ भूमि आबंटित हो – विप्र सेवा संघ

सीधी। विप्र सेवा संघ द्वारा सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ल क़ो ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन सौंपने उपरांत जिला अध्यक्ष पंडित चक्रधर गौतम जानकारी देते हुए बताया कि दिनांक 22-12-2020 को इटौरा बाय पास रीवा मध्य प्रदेश मे सरकारी जमीन पर अतिक्रमण बता कर भगवान परशुरामजी आश्रम और यज्ञशाला को गिरा दिया गया जबकी भगवान परशुराम क़ा मंदिर, भगवान हनुमान जी का मंदिर और शनि देव के मंदिर भी बने हुए थे कई साधु संत निवास करते थे पूजा ,अर्चना, कीर्तन,यज्ञ, अनुष्ठान करते थे। ऐसे सनातनी आस्था वाले स्थान पर बुलडोजर चला दिया गया ऐसे कृत्य से करोडो लोगो की भावना आहत हुई है। धर्मिक स्थानो क़ो धराशाई करने से पहले पर्याप्त समय दिया जाता है लेकिन यंहा तो 24 घंटे मे आश्रम धराशाई कर दिया गया। आश्रम मे रहने वाले साधु संत बेघर हो गये इस कड़कड़ाती ठंड मे कंहा जाएंगे क्या करेंगे। एक तरफ सरकार मठ मंदिर क़ो सुरक्षित करने की बात करती है दूसरी तरफ बने हुए आश्रम क़ो ध्वस्त करवाती है। संघ किसी भी प्रकार के अतिक्रमण के पक्ष मे नहीं है।

बताया कि संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और रीवा विधायक और पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ला से विनम्र अपील किया है की परशुराम आश्रम मे करोडो लोगो की आस्था जुड़ी है परशुराम भगवान विष्णु भगवान के छठे अवतार है किसी एक धर्म या वर्ग के नही है अपितु सभी सनातनियो के आराध्य है करोडो लोगो की आस्था क़ो ध्यान मे रखते हुए परशुराम आश्रम क़ा भव्य निर्माण करवाये। आश्रम को ध्वस्त करने से लगभग संपूर्ण हिन्दू समाज सहित करोडो साधु संतुओ की भावना आहत हुई है उसी स्थान मे परशुराम आश्रम के नाम से ट्रस्ट बनाया जाय और उसी स्थान पर भव्य निर्माण कराया जाय या परशुराम आश्रम के नाम से 5 एकड़ जमीन क़ा आवंटन कराया जाय जिसमे भव्य परशुराम जी का मंदिर , धर्मशाला, यज्ञशाला और गौशाला क़ा निर्माण सरकार के सहयोग से कराया जाय।

सीधी विधायक केदारनाथ शुक्ल को ज्ञापन देते वक्त जिला अध्यक्ष पंडित चक्रधर गौतम, पंडित जान्हवी गौतम, राकेश शुक्ला, सुनील शुक्ला, विवेक गौतम सहित संघ के अन्य पदाधिकारी उपस्थिति रहे।