“नर सेवा ही नारायण सेवा है” को चरितार्थ करते परिषद के युवा

0
974

“नर सेवा ही नारायण सेवा है” को चरितार्थ करते परिषद के युवा

धन कुबेरो ने तोड़ा मानवता से नाता, मदद के लिए युवाओं ने बढ़ाया हांथ

अमित कु. गौतम “स्वतंत्र” (समय INDIA 24) रीवा । नर सेवा ही नारायण सेवा है यह कहावत को चरितार्थ कर रहे युवा एकता परिषद के युवाओं द्वारा वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण के दौरान गरीब – जरूरतमंद को खाद्य सामग्री पहुंचाया जा रहा है। इस महामारी पर जब कथित समाजसेवी, धन कुबेर, जनप्रतिनिधि जब मानवता से नाता तोड कर घर में छुप गए हैं तब युवा एकता परिषद सामने आ कर जरूरतमंदो को खाद्य सामग्री पहुंचा रहा है । आज के इस परिवेश में जहां हम सभी अपने अपने स्वार्थ के लिये सोचते है और करते है। यहां तक कि हम अपने लिये भी ठीक से नही कर पाते है मगर इन सभी के बवजूद इस महामारी मे दूसरे के लिये इतना परमार्थ करना एवं सर्वश्रेष्ठ करने के भाव के साथ युवा एकता परिषद संरक्षक पण्डित सचिन शर्मा “सूर्या” और उनके साथियों ने अपने सेवा भाव कार्य से निश्चित तौर पर मानव सभ्यता को जीवित रखा है।

 प्रत्येक जरूरतमंद तक पहुंचेगा युवा एकता परिषद – सचिन शर्मा 

युवा एकता परिषद संरक्षक पण्डित सचिन शर्मा “सूर्या” के नेतृत्व में परिषद के कार्यकर्ता और सहयोगियों द्वारा 25 दिवस से लगातार जरूरतमंदो व गरीब परिवारो तक एक – एक सप्ताह के लिए खाद्य सामग्री पहुंचाई जा रही है। परिषद संरक्षक सचिन शर्मा ने निजी चर्चा के दौरान कहा कि प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस कि चैन को तोड़ने के उद्देश्य व जिले के लोगो कि स्वास्थ्य सुरक्षा कि दृष्टि से लगाए गए लॉक डॉउन पर दिहाड़ी मजदूर वर्ग व गरीबो को समस्याएं जा रही थी, कई बार ऐसा हुआ कि सहयोग के लिए संपर्क किया गया। जिसके बाद युवा एकता परिषद ने निर्णय लिया कि प्रत्येक जरूरतमंद तक खाद्य सामग्री हम परिषद के सदस्य पहुंचाएंगे जिससे कोई भूखा न रहे, किसी बच्चे कि जान भूख से न जाए और अब प्रत्येक जरूरतमंद तक मदद पहुंचाने युवा एकता परिषद दिन रात सेवारत है।