कुरीतियों पर विजय शिक्षा के प्रकाश से सम्भव – मुस्लिम धर्म गुरू आदिल रजा

0
449

कुरीतियों पर विजय शिक्षा के प्रकाश से सम्भव – मुस्लिम धर्म गुरू आदिल रजा

समय INDIA 24, 8839245425 सीधी। समाज मे मानवता का संदेश, अनेकता मे एकता के रिश्ते मजबूत करने के साथ ही अमन चैन शांति व तरक्की के लिये मुस्लिम समाज के धर्म गुरू सैय्यद आदिल रजा क़ादरी, सैय्यद कामिल रजा क़ादरी अपने प्रवास के दौरान शनिवार को जिला मुख्यालय पहुॅचें। जहॉ हजारों की तादात मे उनके अनुआयी मोम्मदी मैदान मे एकत्रित रहे। पवित्र कुरान मे अल्लाह के आदेश एवं मानवता का संदेश बताया और कहा कि वर्तमान समय की मॉग है कि शैक्षणिक स्तर समाज मे वृद्धि हो। क्योंकि शिक्षा के प्रकाश से ही समाज की कुरितियों पर विजय सम्भव है।

अपने संबोधन में मुस्लिम धर्म गुरू ने बताया कि पवित्र कुरान मे नेक इंशान बनने की बात कही गयी है, साथ ही समाज मे संदेश दिया गया है कि कभी किसी के साथ ज़्यादती न करना क्योंकि अल्लाह ज़्यादती करने वालो से दोस्ती नहीं रखता। हम सब का कर्तव्य है कि एक अच्छे इंशान बन कर इंसाफ करें, क्योंकि यही परहेजग़ारी की बात हैं और अल्लाह से डरते रहें, कुछ शक नहीं की अल्लाह हम सबके कार्यों से ख़बरदार हैं। अल्लाह न्याय, भलाई और रिश्तेदारों के हक़ अदा करने का आदेश देता हैं साथ ही बुराई और अश्लीलता और ज़ुल्म व ज़्यादती से रोकता हैं। वह तुम्हे नसीहत करता हैं ताकि तुम शिक्षा लो।

नशा पर पाबंदी कि बात – मुस्लिम समाज के धर्म गुरू सैय्यद आदिल रजा क़ादरी द्वारा बताया गया कि युवाओं के द्वारा ही समाज का विकास सम्भव है, ऐसे मे वर्तमान पीढ़ी के कुछ युवाओं का नशे की लत मे जाना अत्यंत निदंनीय है। हम सब का मुहीम के तहत प्रयाश चल रहा है कि नशा मुक्त समाज का निर्माण हो सके।

शैक्षणिक स्तर का हो विकास –किसी भी समाज के विकास हेतु सबसे पहली प्राथमिकता शैक्षणिक स्तर के विकास पर ही निर्भर रहती है। ऐसे मे ग्रामींण अचंलो से लेकर शहरी क्षेत्रो तक और अंतिम पंक्ति के आखरी व्यक्ति तक शिक्षा का प्रकाश पहुॅचाने का प्रयाश किया जा रहा है।

विवादित बयानों से करें परहेज –वर्तमान परिवेश मे शोसल मीडिया सहित अन्य स्थलों पर समाज को दो भागों मे बाटने वाले बयानों से बचना चहिए तभी अनेकता मे एकता और अखण्डता का संदेश प्रभावी हो सकेगा। हम सभी का दायित्व है कि सत्य न्याय एवं मानवता के विकास मे सहायक बनें।

विपदा की घड़ी मे मुस्लिम समाज ने पेश की मिशाल – मुस्लिम समाज के धर्म गुरू सैय्यद आदिल रजा क़ादरी ने बताया कि विपदा की घड़ी कोरोना संक्रमण काल के दौरान मुस्लिम समाज एवं संगठन के पदाधिकारियों के द्वारा मानवता की मिशाल पेश की गयी। भूंखे को भोजन, मरीज को दवा, गरीब को आर्थिक मदद अलग अलग चरणों मे की गयी। साथ ही हम सब का प्रयाश है कि हर हाल मे इंशानियत का परिचय देते हुए दीन हीन गरीब मजबूर की समग्र रूप से मदद की जाये। मुस्लिम धर्म गुरू ने कहा कि मेरी दो बहनें चिकित्सक हैं और इनके द्वारा कोरोना की दोनो लहरो के दौरान पूरे समाज को अपना घर मानते हुए हर बीमारों की मदद करने का प्रयाश किया गया।

ये मौजूद रहे –इस अवसर पर सैय्यद महदी हसन साबिर, अली अब्दुल हफीज, मोहम्मद कलाम, मो. गुलाम, मो. इस्लाम, मो. शमशीर, अब्दुल समद, अब्दुल मजीद, साथ ही सैय्यद आदिल रजा क़ादरी कुर्सी, खिताबत गौसूल वारा कॉन्फ्रेंस जिला सीधी एवं अन्य मोहम्मदी मौजूद रहें।